Food and Fashion

आई केयर गाइड : आंखों के नीचे काले घेरे होने की वजह व उन्हें हटाने के उपाय

आपने बहुत लोगों की आंखों के नीचे काले घेरे (beneath eye darkish circles) देखे होंगे, जिन्हें वे कंसीलर (concealer) या मेकअप (make-up) से छिपाने की कोशिश करते हैं। रात को काफी देर तक जगने, तबीयत खराब होने, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (digital system) का ज्यादा उपयोग करने या अत्यधिक तनाव लेने से आंखों के नीचे काले घेरे यानि कि डार्क सर्कल्स बनने की समस्या होने लगती है। अगर आप भी डार्क सर्कल्स (darkish circles) की समस्या से परेशान हैं तो हमेशा मार्केट के केमिकल युक्त प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने के बजाय घर में बनाए गए ब्यूटी पैक्स का इस्तेमाल करें। ब्यूटी से जुड़े किसी भी ट्रीटमेंट के लिए होममेड पैक्स सबसे बेहतर माने जाते हैं। अंडर आई डार्क सर्कल्स होना आम बात है। उनकी वजह से परेशान होने के बजाय जानें उनके होने की वजह,  कैसे उनसे छुटकारा पाएं और काले घेरे हटाने के घरेलू उपाय।

आंखों के नीचे काले घेरे क्यों होते हैं

आजकल सौंदर्य व स्वास्थ्य की ज्यादातर समस्याओं की वजह लोगों की जीवनशैली होती है। आंखों के नीचे काले घेरे होने की समस्या भी बेहद आम हो गई है। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं तो परेशान होने के बजाय उसकी वजह को समझ कर उन्हें दूर करने की कोशिश करें।

1. सुधारें सोने का तरीका – डार्क सर्कल्स होने का सबसे प्रमुख कारण है, रात को देर तक जगना। जो लोग देर रात तक पढ़ते रहते हैं या फोन/ लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं, उनका इस समस्या से दो- चार होना बेहद आम है। कई बार लोग किसी तरह के स्ट्रेस के कारण भी रात भर जगते रहते हैं। अपने स्लीपिंग पैटर्न को सुधारने के लिए बेहतर होगा कि हर रात समय पर सोने की आदत डालें व रात को जितना हो सके, सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रहें। बेहतर होगा कि फोन या किसी भी तरह के गैजेट को अपने बेड तक लेकर ही न जाएं।

2. लाइफस्टाइल में ज़रूरी बदलाव – नियमित धूम्रपान व अल्कोहल की आदत की वजह से भी कुछ लोगों की आंखों के नीचे काले घेरे नज़र आने लगते हैं। शरीर में डीहाइड्रेशन होने से भी डार्क सर्कल्स (darkish circles) की समस्या हो सकती है। अगर आप चाहते हैं कि आपका चेहरा फ्रेश और बेदाग नज़र आए तो बेहतर होगा कि अपनी स्मोकिंग व ड्रिंकिंग हैबिट को आप अलविदा कह दें। डीहाइड्रेशन व दूसरी बीमारियों से बचने के लिए अपनी दिनचर्या में Eight- 10 गिलास पानी का इनटेक ज़रूर शामिल करें।

Three. जेनेटिक भी है वजह – कुछ लोगों का स्लीपिंग पैटर्न और लाइफस्टाइल बिलकुल दुरुस्त होने के बावजूद वे आंखों के नीचे काले घेरों की समस्या (underneath eye darkish circles) से जूझ रहे होते हैं। दरअसल, कई बार इस तरह की समस्याओं का कारण जेनेटिक बी होता है। अगर आपके मम्मी- पापा या परिवार के किसी और करीबी सदस्य को यह समस्या रही है तो बहुत आशंका है कि आपको भी उससे जूझना पड़ेगा। ऐसी स्थिति में इनका स्थायी तौर पर इलाज तो नहीं किया जा सकता है पर कुछ घरेलू उपायों से कालेपन और पिगमेंटेशन को कुछ कम ज़रूर कर सकते हैं।

four. बीमारी का संकेत – अगर आप हाल ही में किसी लंबी बीमारी से उबरे हैं या शरीर में किसी तरह की कोई कमी हो रही है तो उसका असर भी चेहरे पर साफ नज़र आने लगता है। ऐसी स्थिति में ज्यादातर लोगों की आंखों के नीचे काले घेरे बनने लगते हैं। वैसे तो स्वस्थ होने के बाद ये काले घेरे भी खुद ब खुद मिट जाते हैं पर अगर आप चाहें तो पानी का इनटेक बढ़ाकर भी इस समस्या का समाधान ढूंढ सकते हैं। अपने डॉक्टर की सलाह पर आप विटामिन सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

5. बैलेंस्ड डाइट है ज़रूरी – खाने की गलत आदतों की वजह से शरीर में कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। अगर आपके खाने में सलाद व हरी सब्ज़ियां शामिल नहीं हैं तो उसका असर आपकी त्वचा पर ज़रूर नज़र आने लगेगा।

balanced-diet-to-remove-dark-circles

आंखों के नीचे की त्वचा बेहद पतली और नाज़ुक होती है इसलिए किसी भी न्यूट्रिशन की कमी डार्क सर्कल्स के तौर पर आंखों के नीचे नज़र आने लगती है। मीठे व प्रोसेस्ड फूड आइटम खाना कम करके अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां और खानपान की आयरन व विटामिन सी युक्त चीज़ों को वरीयता दें।

6. जानें अपनी एलर्जी की वजह – कुछ लोगों को मशरूम से एलर्जी होती है तो कुछ मूंगफली से परेशान होते हैं। कभी- कभी किसी चीज़ से एलर्जी होने की वजह से भी लोगों की आंखों के नीचे पिगमेंटेशन होने लगता है। वहीं, सर्दी- जुकाम से ग्रस्त होने पर लोग बार- बार अपनी आंखों को रब करते हैं, जिससे वहां रेडनेस होने लगती है। अगर आप भी किसी एलर्जी से परेशान हैं या आपको लगता है कि किसी खास चीज़ से आप एलर्जिक हो सकते हैं तो अपने नज़दीकी अस्पताल जाकर एलर्जी टेस्ट ज़रूर करवाएं।

7. कंप्यूटर का ज्यादा इस्तेमाल – आजकल के कामकाज के रूटीन को देखते हुए कंप्यूटर या लैपटॉप से दूरी बनाना मुमकिन नहीं है। लोग 10- 12 घंटों तक लगातार स्क्रीन पर देखते रहते हैं, जिसका सीधा असर उनकी आंखों व आंखों के आसपास की त्वचा पर पड़ता है। हर 2- Three घंटे के अंतराल पर अपने काम से ब्रेक लेते रहें। आंखों पर तनाव महसूस हो रहा हो तो उन्हें ठंडे पानी से धोएं। अपने आई मसल्स को रिलैक्स करने के लिए हल्के हाथों से आंखों की मसाज भी कर सकते हैं।

डार्क सर्कल से बचने के उपाय (Tricks to keep away from darkish circles)

दुनिया में ऐसी कोई समस्या नहीं है, जिसका समाधान न निकाला जा सके। अगर आप अंडर आई डार्क सर्कल्स से बचना चाहते हैं तो इन टिप्स और ट्रिक्स को ध्यान में रखें।

1. तनाव से दूर रहने की कोशिश करें। तनाव की वजह से लोगों को नींद की समस्या होने लगती है, जिसका असर आपके स्वास्थ्य और त्वचा पर नज़र आने लगता है। आंखों के नीचे काले घेरों की समस्या से बचने के लिए समय पर सोने व तनाव रहित रहने से बेहतर कोई उपाय नहीं हो सकता है।

2. कैसी भी समस्या हो, सेल्फ मेडिकेशन से बचें। अपनी एलर्जी व दूसरी बीमारियों के इलाज के लिए सही डॉक्टर से परामर्श लें। कई बार कुछ खास मेकअप प्रोडक्ट्स से भी लोगों को एलर्जी हो जाती है, अगर आपके साथ भी ऐसा है तो उनके इस्तेमाल से बचें।

Three. दिन में एक बार अपनी आंखों के नीचे मॉयस्चराइज़र ज़रूर लगाएं। आंखों के नीचे की त्वचा रूखी होने पर डार्क सर्कल्स ज्यादा नज़र आते हैं। डार्क सर्कल्स, सूजन व झुर्रियों से बचने के लिए अपनी आंखों की सेहत का भी खास ख्याल रखना ज़रूरी होता है।  

four. आंखों के नीचे की त्वचा बेहद पतली और नाज़ुक होती है, जिसकी वजह से किसी भी चीज़ का असर सबसे पहले वहीं नज़र आता है। इसलिए आंखों के नीचे की त्वचा को बिना मतलब के बार- बार छूने और रब करने से बचना चाहिए।

5. अपनी त्वचा को सूरज की किरणों से बचाना बेहद ज़रूरी होता है। दिन में बाहर निकलने से पहले चेहरे पर सनस्क्रीन लगाना न भूलें। धूप में बाहर जा रहे हैं तो सनग्लासेज़ और हैट भी कैरी करें। सर्दी व गर्मी, सनस्क्रीन का इस्तेमाल हर मौसम में किया जाना चाहिए।

डार्क सर्कल हटाने के घरेलू उपाय (House cures to take away darkish circles)

अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में सौंदर्य प्रसाधनों का अत्यधिक इस्तेमाल करने के बजाय हमें अधिकतर प्राकृतिक व घरेलू उपाय का प्रयोग करना चाहिए।

1. हर रोज़ रात को सोने से पहले अपना सारा आई मेकअप और काजल ज़रूर हटाएं।
2. एवोकैडो का चिकना पेस्ट बन जाने तक उसे मैश करते रहें, ध्यान रखें कि उसमें किसी तरह की कोई गांठ न रह जाए। फिर एवोकैडो के इस पेस्ट को अपनी आंखों के चारों तरफ लगा लें।
Three. दही में केसर के 2-Three धागे मिलाएं। इस पेस्ट को 10 मिनट तक अपने डार्क सर्कल्स पर लगाकर रखने के बाद ठंडे पानी से धो लें।
four. आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के लिए खीरे के गूदे का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल करने से झुर्रियों और फाइन लाइंस की समस्या भी खत्म हो सकती है।
5. दूध में बादाम भिगोएं और फिर उसमें केसर का एक धागा मिला दें। अब इस पेस्ट को अंडर आई डार्क सर्कल्स पर लगाएं।
6. कुछ मिनटों के लिए ग्रीन टीबैग्स को बर्फ वाले पानी में भिगो कर रखें। फिर उसको अपनी आंखों पर लगाएं। बेहतर परिणाम के लिए 15-20 मिनट तक इंतज़ार करें।
7. आंखों के नीचे काले घेरे कम करने के लिए आलू को भी बहुत फायदेमंद माना जाता है। आलू का रस निकालने के लिए 2 आलू को धोकर ग्रेट कर लें। रुई की सहायता से इस जूस को डार्क सर्कल्स पर लगाएं।

potato-to-remove-dark-circles

Eight. बादाम के तेल को रात भर आंखों पर लगाए रखने के बाद सुबह ठंडे पानी से धो लें।
चिरौंजी दाने में दूध मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को 10 मिनट तक आंखों के नीचे काले घेरे पर लगाकर रखने के बाद धो लें।
9. एक टीस्पून एलोवेरा जेल में विटामिन ई का एक कैप्सूल मिलाएं। अब इस पेस्ट से आंखों की मसाज करें। रात भर उसे लगाए रखने के बाद सुबह साफ कर लें।

loe-vera-get-to-remove-dark-circles

मेकअप से छिपाएं डार्क सर्कल्स

लाइफस्टाइल में सुधार व घरेलू उपायों के अलावा ज़रूरत पड़ने पर सही मेकअप से भी आंखों के नीचे के काले घेरों को छिपाया जा सकता है। जानें कुछ तरीके।

1. कंसीलर हो सही – कंसीलर के सही शेड का इस्तेमाल कर भी आप अंडर आई डार्क सर्कल्स को छिपा सकते हैं। कंसीलर लेने से पहले अपनी आंखों पर उसे टेस्ट ज़रूर करें। अपनी स्किन टोन से मैच करता हुआ कंसीलर लें और बेहतर होगा अगर उसमें विटामिन सी, ई, के और रेटिनोल जैसी सामग्री भी हो। अगर आपके काले घेरे गहरे हो गए हैं तो कंसीलर से पहले कलर करेक्टर का इस्तेमाल करें।
2. सही जगह पर लगाएं – सही कंसीलर लेने के बाद उसे एकदम सही जगह पर लगाना भी एक ट्रिक है। कंसीलर को त्रिकोणीय (triangle) शेप में अपनी आंखों के नीचे लगाएं। कंसीलर को त्वचा में ब्लेंड करने के लिए सॉफ्ट ब्रश या स्पॉन्ड का प्रयोग करें। कंसीलर को आंखों के नीचे रब करने के बजाय अपनी रिंग फिंगर से डैब भी कर सकते हैं।

अंडर आई डार्क सर्कल्स को लेकर पूछे जाने वाले प्रचलित सवाल- जवाब (FAQs On How To Take away Darkish Circles)  

1. क्या डार्क सर्कल्स को स्थायी तौर पर हटाया जा सकता है?

अगर डार्क सर्कल्स जेनेटिक हैं तो उन्हें स्थायी तौर पर हटाना मुश्किल है पर उनके रंग को हल्का किया जा सकता है। एलो वेरा, गुलाब जल, आलू का रस, नारियल तेल व खीरे की मदद से अंडर आई डार्क सर्कल्स का प्राकृतिक इलाज किया जा सकता है।

rose-water-to-remove-dark-circles

2. क्या एलो वेरा से सच में डार्क सर्कल्स को हटाया जा सकता है?

एलो वेरा जेल की मदद से किसी भी तरह की त्वचा संबंधी समस्या का समाधान किया जा सकता है। उसमें विटामिन सी, ई और बी 12 पाए जाते हैं, जिनसे आंखों के नीचे के काले घेरों का इलाज किया जाता है। इसके इस्तेमाल से काले घेरों के रंग को लाइट किया जा सकता है।

Three. क्या किसी केमिकल ट्रीटमेंट से भी काले घेरों को हटा सकते हैं?

इसके लिए आपको डर्मेटोलॉजिस्ट यानि कि किसी त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लेनी होगी। वही आपकी त्वचा को देखते हुए सही एंटी- एलर्जी ट्रीटमेंट या विटामिन सी सप्लीमेंट लेने का सुझाव दे सकते हैं। कभी- कभी लेज़र थेरेपी की सलाह भी दी जाती है।

four. अंडर आई डार्क सर्कल्स से बचाव करने का उपाय।

अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव कर आप इस समस्या से बच सकते हैं। ढेर सारा पानी पिएं और आंखों को स्ट्रेन देने से बचें। अपनी आंखों को नियमित तौर पर मॉयस्चराइज़ करें और किसी तरह की जलन होने पर आंखों को रब करने के बजाय ठंडे पानी से धोएं।

इनपुट्स : वीएलसीसी की ब्यूटी एक्सपर्ट सत्या शर्मा (Magnificence Skilled, VLCC, Satya Sharma)

            हेयर एंड मेकअप एक्सपर्ट आशमीन मुंजाल (Hair & Make-up Skilled Aashmeen Munjaal)

            जेपी हॉस्पिटल नोएडा की कंसल्टेंट डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. साक्षी श्रीवास्तव (Dr, Sakshi Srivastava, Marketing consultant Dermatologist, Jaypee Hospital, Noida)

            स्वागता दत्ता (Swagata Dutta)

ये भी पढ़ें :

सौंदर्य – आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के आसान व घरेलू उपाय

गर्मियों में निखार के लिए अपनाएं ये ब्यूटी टिप्स

अरंडी के तेल के फायदे व नुकसान

सुंदर व स्वस्थ त्वचा के लिए जानें कैस्टर ऑयल के फायदे

जानें अलसी के बीज के सभी फायदे और नुकसान

!perform(f,b,e,v,n,t,s)if(f.fbq)return;n=f.fbq=perform()n.callMethod?
n.callMethod.apply(n,arguments):n.queue.push(arguments);if(!f._fbq)f._fbq=n;
n.push=n;n.loaded=!zero;n.model=’2.zero’;n.queue=[];t=b.createElement(e);t.async=!zero;
t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e)[0];s.parentNode.insertBefore(t,s)(window,
doc,’script’,’https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);

fbq(‘init’, ‘303042173204749’);
fbq(‘monitor’, “PageView”);var appId = (“production” == ‘improvement’) ? ‘1537072703263588’ : ‘1425515514419308’;

window.fbAsyncInit = perform()
FB.init(
appId: appId,
autoLogAppEvents: true,
xfbml: true,
model: ‘v2.11’
);

// Broadcast an occasion when FB object is prepared
var fbInitEvent = new Occasion(‘FBObjectReady’);
doc.dispatchEvent(fbInitEvent);
;

(perform(d, s, id)
var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0];
if (d.getElementById(id)) return;
js = d.createElement(s);
js.id = id;
js.src = “https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js”;
fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs);
(doc, ‘script’, ‘facebook-jssdk’));